thaken views&news

Just another Jagranjunction Blogs weblog

35 Posts

32 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 15726 postid : 1307307

हिन्दी व्यंग्य - डिलीट गांधी - पेस्ट मोदी = जग मोहन ठाकन

Posted On: 14 Jan, 2017 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

जग मोहन ठाकन (वरिष्ठ पत्रकार एवं लेखक )
सर्वोदय स्कूल के पीछे , वार्ड -2 , सादुलपुर (राजगढ़) ,चूरु , राजस्थान । मोब- 9466145112 , 7665261963 पिन -331023
Email-thaken.journalist@gmail.com
blog- http://thakenjagmohan.blogspot.in/
व्यंग्य —जग मोहन ठाकन
डिलीट गांधी –पेस्ट मोदी
खादी ग्रामोद्योग के कलेंडर –डायरी से गांधी जी की फोटो डिलीट कर मोदी जी की फोटो पेस्ट कर देने मात्र से न जाने कुछ लोगों के पेट में क्यों मरोड़े उठने लगे हैं । समय बड़ी तेज़ी से बदल रहा है । इतने लंबे अरसे तक गांधी जी को चरखे पर सूत कातने की ड्यूटी संभलवाई गई थी ,क्या वे अपनी ड्यूटी सही ढंग से निभा पाये ? क्या उन्होने देश के लिए जरूरत के मुताबिक सूत काता ?नहीं न ? जो व्यक्ति इतने सालों तक सूत कातने का उपक्रम करता रहा , वो अपना ही तन आज तक नहीं ढाँप पाया , वो भला कैसे आम आदमी को वस्त्र दे पाएगा ?गांधी जी ने चरखे की गति बड़ी ही धीमी रखी है , यह भी अलग से जांच का विषय है , हम इस पर भी सोचेंगे। इसमे भी किसी राजनैतिक दल की चाल परिलक्षित हो रही है । आज भी कुछ दल चाहते हैं कि गांधी जी के चरखे की गति धीमी रहे और आम आदमी यों ही नंग धड़ंग फिरता रहे । परंतु भाइयो और बहनों , आज युग परिवर्तन का दौर है , हमे पुराने खादी वस्त्रों की जगह नए दस दस लाख वाले वस्त्र चाहिए । विदेशों में हमारी साख का सवाल है । अब तुम ही बताओ , जिस व्यक्ति ने कभी दस लाख का सूट देखा ही नहीं वो भला कैसे कात पाएगा चरखे पर उस सूट का धागा ? नहीं न ?
अब गांधी जी के हाथ ढीले पड़ चुके हैं । पता है क्यों ? क्योंकि असली हाथ –किसी और के साथ । अब नकली हाथों के सहारे कब तक चलेगा चरखा ? अतः अब गांधी जी को विश्राम की जरूरत है । क्या भला यह अच्छा लगता है कि डेढ़ सौ वर्ष की इस उम्र में भी हम अपने पूजनीय पूर्वज से सूत कतवायेँ ? नहीं न मित्रों ? यह तो सरासर अन्याय है , हमारी संस्कृति के खिलाफ है । यह जरूर किसी 70 साल तक राज करने वाली पार्टी की हमारी संस्कृति का क्षरण करने की साजिश है । परंतु मित्रों हम यह नहीं होने देंगे । एक “बापू” इस वृद्धावस्था में भी चरखा चलाने को विवश हो और औलाद हाथ पर हाथ धरे देखती रहे , यह हमसे सहन नहीं होगा । भले ही हमें खुद ही चरखा क्यों न चलाना पड़े । वैसे भी हमने गांधी जी के चश्मे को तो पहले ही स्वच्छ भारत की निगरानी के लिए डेप्यूट कर दिया है , अब भला बिना चश्मे के गांधी जी कैसे कात पाएंगे सूत ?
विरोधी पार्टियां हो सकता है हम पर आरोप लगाएँ कि हमें चरखा नहीं चलाना आएगा । हमने पुराने चरखे को हटाकर नया चरखा लगाया है , जो कि ऑटोमैटिक है , हमें तो केवल इसके पास बैठकर फोटो खिंचवाना है । हमने तो पुराने ढर्रे के नोटों को एक ही झटके में प्रचलन से बाहर करके दुनियाँ को दिखा दिया है कि हम सारे घर के पर्दे बदल सकते हैं । लोग नोटबन्दी के बाद छपे कुछ नए नोटों पर भी गांधी जी की तस्वीर न छपी होने का राग अलापते रहे हैं । हमने सब को लाइन में लगा दिया है । भाइयो बहनों पुराने विचारों को त्यागिये और नवयुग में प्रवेश कीजिये । आपको नोटों का करना ही क्या है ? कैश लेस हो जाइये । न रहेगा बांस , न बजेगी बांसुरी । हम हमारी वसुधैव कुटुंबकम की नीति का अनुसरण कर रहे हैं । जिस पड़ौसी देश का हमारे साथ सदैव कटुता पूर्ण व्यवहार रहता था , आज वो ही हमें पेटीएम दे रहा है । है न अचरजपूर्ण बदलाव । युग बदल रहा ,जग बदल रहा ,फिर तुम बदलो क्या नई बात । भाइयो बहनों हमने ऐसी ताली बजाई है कि देखते जाओ सारी विदेशी कंपनियाँ आपकी गलियों में आपके आगे नतमस्तक हो जाएंगी । बस चरखे की कताई देखो , कातने वाले को नहीं । हम हर नागरिक को चरखा चलाने का अधिकार देना चाहते है और वो भी अपनी सेल्फी के साथ ।
—–

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 3.67 out of 5)
Loading ... Loading ...

3 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

PAPI HARISHCHANDRA के द्वारा
January 17, 2017

आादरणीय जगमोहन ठाकन जी अभिनंदन ,इतने सुन्दर व्यंग पर कोइ टिप्पणी नहीं ।कितने नादान होते हैं पाठक …यदि यही व्यंग किसी राजनेता ने किया होता तो टी वी चैनल पर बहस छिड जाती ।ओम शांति शांति

Shobha के द्वारा
January 18, 2017

आदरणीय जगमोहन जी काफी समय से ऐसा उदासीनता का माहौल फैला पाठक लेख पढ़ते हैं लेकिन प्रतिक्रिया के प्रति उदासीन हो गए आपका लिखा लेख बहुत अच्छा था बहुत लोगों ने पढ़ कर सराहा भी होगा | यह उदासीनता एक दिन की देन नहीं है उसमें पाठकों का भी कसूर नहीं है

jlsingh के द्वारा
March 3, 2017

वाह वाह! और वाह! वाह! आदरणीय जगमोहन साहब आपने सचमुच जग को मोहित (जीत) लिया.. सादर!


topic of the week



latest from jagran